Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

गीत

नवम्बर, 2016
1.डॉ०अनिल चड्डा -कलियुग  होगा इसी पर तू फ़िदा  ग्रहण   2.राकेश श्रीवास्तव -दुःख के लिए कहाँ तक रोना   3.आचार्य संजीव वर्मा सलिल -देश-हितों हित  संबंधों की नाव  4.हरिहर झा -मन स्वयं बारात हुआ  

दिसम्बर, 2016
1.डॉ०अनिल चड्डा -अस्थियों के जंगल में   
2.सरस्वती माथुर -मैं नए गीत बुन रही हूँ!,   मोतिया के शंख !,   नवगीत   

जनवरी, 2017
1.विश्वम्बर व्यग्र - दिन बदले-बदले लगे हैं...   

फरवरी, 2017
   -

मार्च, 2017
1.मंजूषा मन - (i) मेरे भावों अर्पण को ,(ii)पंख फैलाओ अगर पास आसमान रहे (iii)रातों को दिल के करघे पर

अप्रैल(द्वितीय), 2017
1.डॉ०अनिल चड्डा - (i)अपना धर्म, (ii)हर बात याद आयेगी 2.मनोज कुमार शुक्ल‘‘मनोज’’ - (i)ओ दीप तुझे जलना होगा

मई(प्रथम), 2017
1.गोवेर्धन यादव - (i)अब तुम आयीं , (ii)अधरों पर लिख दो (iii)जिन्दगी भी मुस्कुरा देगी 2.डॉ०अनिल चड्डा -(i)ताण्डवी निशाचरी

मई(द्वितीय), 2017
1.डॉ० अनिल चड्डा - (i)कौन निर्मोही मोह जताये 2.गोवेर्धन यादव -(i)कैसे गाऊँ और गवाऊँ रे , (ii)क्यों कर मेरा आँगन महक गया है

जून(प्रथम), 2017
1.अजित पाण्डेय 'शफ़क़' - (i)कैसे ऊंचाई नापते है2.डॉ० अनिल चड्डा -(i)कहाँ से लाऊं दिल मैं ऐसा 3.गुलाब चंद पटेल -(i)लोक गीत - "मिलने आओ शामलिया " 4.डॉ. योगेन्द्र नाथ शर्मा ’अरुण’ - (i)प्यार तुम्हारा

जून(द्वितीय), 2017
1.सुशील कुमार शर्मा-(i)रजनीगंधा


जुलाई(प्रथम), 2017
1.डॉ०अनिल चड्डा (i)जो नहीँ मिला, सो नहीँ मिला 2.सुशील कुमार शर्मा (i)रजनीगंधा सावन गीत-1

जुलाई(द्वितीय), 2017
1.डॉ०अनिल चड्डा (i)प्यार कभी न कर लेना

अगस्त(प्रथम), 2017
1.डॉ०अनिल चड्डा (i)अहं की दुकान
(ii)क्या करना है तुझे यादों का (iii)में कैसे मिटाऊँ यादें तुम्हारी 2.रेनू सिरोया''कुमुदिनी'' (i)बरखा बहार 3.सुशील कुमार शर्मा(i)हे शिव शम्भू

अगस्त(द्वितीय), 2017
1.डॉ०अनिल चड्डा
(i)प्रेम गुहार लगाऊँ
(ii)समझो यहाँ पर स्वर्ग मिले

सितम्बर(प्रथम), 2017

1.डॉ०अनिल चड्डा (i)रात ने ओढ़ी काली चादर (ii)यादों को बर्बाद किया

सितम्बर(प्रथम), 2017

1.डॉ०अनिल चड्डा (i)रात ने ओढ़ी काली चादर (ii)यादों को बर्बाद किया

सितम्बर(द्वितीय), 2017

1.डॉ०अनिल चड्डा (i)दर्द से जुदा कोई बंदा नहीं! (ii)हम चलें तदबीर से! (iii)प्रेम सभी को होता है 2.विश्वम्भर पाण्डेय 'व्यग्र' (i)समझ नहीं आये...

www.000webhost.com