Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 44, सितम्बर(प्रथम) , 2018



अटल जी


कवि जसवंत लाल खटीक


                         
"परम् पूजनीय युगपुरुष , सदी के महानायक हमारे 
पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी जी को अश्रुपूरित 
भावभीनी श्रद्धांजलि नमन ॐ शान्ति" 

रो रही है धरती माता  , 
               रो रहा सारा आसमान ।
अटलजी आपके जाने से ,
                  रो रहा भारत महान ।।

खुशिया छायी होगी चहुँओर , 
                      देवों के दरबार में ।
चल दिया एक फरिश्ता , 
                जमीन से आसमान में ।।

आसमाँ खूब बरस रहा , 
                दुःखी होके आज यहाँ ।
भारत माँ का लाडला अटल , 
                छोड़कर चला ये जहां ।।

स्वच्छ राजनीति बनायी, 
               हो आप भारत की शान ।
अटल रहे ,अमर रहे ,  
              भारत रत्न अटल महान ।।

निःस्वार्थ भाव से अपना  ,
          जीवन देश को अर्पण किया ।
महानायक थे आप देश के ,
      जनता के सुख-दुःख को जिया ।।

राष्ट्रनेता , राष्ट्र कवि , 
              कलम के थे आप जादूगर ।
युगऋषि थे अटल जी , 
            थे आप भारत के सिकन्दर ।।

हिंदुस्तान के युग पुरुष , 
          अमन शान्ति का दिया पैग़ाम ।
अब आसमाँ में अटल रहेंगे , 
                 याद आएंगे सुबह-शाम ।।

एक युग का अंत हुआ , 
               शब्दों का सूरज डूब गया ।
साहित्य जगत हिल गया ,
              कलम का साथ छुट गया ।।

15 अगस्त को ना झुके तिरंगा ,
             मौत की एक दिन हरा दिया ।
जाते-जाते भी अटल जी ने , 
              देशप्रेम अपना दिखा दिया ।।

अटल जी को शत-शत नमन , 
              "जसवंत"की कलम रोती है ।
अटल जी हमेशा अमर रहेंगे , 
               भारत के कोहिनूर मोती है ।।
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें