Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 48, नवम्बर(प्रथम) , 2018



कश्ती


मोती प्रसाद साहू


   
भावों की सुन्दर सरिताएॅ
मनसागर से मिलती जायें।
कल्पना की लहरें लाकर
मोती तट पर रखती जायें।।

मेघ सरिस साहित्य गगन में
आन्दोलित इस सागर उपर।
बढ़ती जाये, तिरती जाये
मेरी कविता-कश्ती अविरल।।
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें