Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 38, जून(प्रथम), 2018



लोग क्या क्या क़यास करते हैं


देवी नागरानी


 
दिल को हम कब महवे-यास करते हैं
आज भी उनकी आस करते हैं
 
हमको ढूँढो न तुम मकानों में
हम दिलों में निवास करते हैं
 
पहले ख़ुद ही उदास रहते थे
अब वो सबको उदास करते हैं
 
चढ़के काँधों पे हो गए ऊँचे
इस तरह भी विकास करते हैं
 
इक्तिफा़कन निगाह उट्ठी थी
लोग क्या क्या क़यास करते हैं
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें