Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 40, जुलाई(प्रथम), 2018



पिता का जीवन में महत्व


गरिमा


 
संघर्ष का दूसरा नाम है पिता
बचपन से जो हमें सपने दिखाए वो है पिता
ऊँगली पकड़कर जो चलना सिखाये वो है पिता
हमारी जागीर और जमीर है पिता
ऊपर से डाट दिखाता और अंदर ही अंदर रोता वो है पिता
जाग कर सारी  रात ख्बाब बुनता वो है पिता
जिसने यह हरा भरा संसार दिखाया वो है पिता
अच्छे बुरे  का ज्ञान कराया वो है पिता
सही गलत का रास्ता दिखाया वो है पिता
मंजिलो को छूना सिखाया वो है पिता
अपनी जरूरतों को काटकर हमारी मांगो को पूराकर
हसंता रहता वो है पिता
जब डर  लगे तो हिम्मत दिखाए वो है पिता
जो सपने हमने देखे उनको पूरा करने मैंने करता मदद वो है पिता
अपनी जवानी बच्चो पर लुटाता वो है पिता
हमारा वजूद बताता वो है पिता
भगवान से बढ़कर होता है पिता 


अपने दुःख को छुपाकर बच्चो को हसाता वो है पिता
अगर पिता न हो तो
सूना है सँसार
माँ बाप के चरणों में ही
स्वर्ग का अहसास है
पिता की महानता को
शत शत  प्रणाम है

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें