Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 52, जनवरी(प्रथम) , 2019



महलों वाले मशहूरों के चोचले ...!!


तारकेश कुमार ओझा


               
ऊंचे महलों वालों मशहूर लोगों के भी
अजब चोंचले हैं
दिखते हैं दमदार
मगर अंदर से खोखले हैं
पर्दे पर नजर आते दमदार
पर भीतर से पोपले हैं
कुत्ते भी पसंद हैं विदेशी नस्ल के
पर  खाते नजर आते  ढोकले हैं
मतलब के लिए ये दिन को रात बना सकते हैं
और गधे को बाप
अगर - मगर के साथ करते हैं
देशभक्ति का जाप
इनके लिए खुशी - गम सब है
फकत एक्टिंग
दिल में है मेरा - मेरा
शालनीता दिखाने को आप - आप

   

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें