Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 55, फरवरी(द्वितीय) , 2019



समाजिक विद्रूपदायें


सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप'


 
करे विचार आज क्यों समाज खण्ड खण्ड है
प्रदेश वेश धर्म जाति वर्ण क्यों प्रचण्ड है
दिखे न एकता कहीं सभी यहाँ कटे  हुए
अबोध बाल वृद्ध या जवान हैं बटे हुए

अपूर्ण है स्वतन्त्रता सभी अपूर्ण ख़्वाब हैं
जिन्हें न लाज शर्म है वहीं बने नवाब हैं
अधर्म द्वेष की अपार त्योरियाँ चढ़ी यहाँ
कुकर्म और पाप बीच यारियां बढ़ी यहाँ

गरीब जोर जुल्म की वितान रात ठेलता
विषाद में पड़ा हुआ अनन्त दुःख झेलता
शरीर रुग्ण नग्न और वस्त्र हैं फ़टे हुए
गरीब का निशान पेट पीठ हैं सटे हुए

न भाग्य में मकान खेत गन्दगी सना रहा
यहाँ सदा गरीब ही गरीब क्यो बना रहा
अजीब बात देश की, किसान भूमिहीन है
घुसा न खेत में कभी, वहीं रखा जमीन है।

सफेदपोश के यहाँ दिखे कभी न रात हो
अमीर जन्मजात वो गरीब की न बात हो
लगा सभी छिपे यहाँ नकाब भेड़ चाल में
कहे सही किसे भला, सभी कुपथ्य हाल में

किसान या जवान हो, सुनो धरा पुकारती
विषाद में घिरी पड़ी, तुम्हे सदा निहारती
विकास की हवा बहे, स्वदेश को निहार लो
जगो उठो चलो बढो, भविष्य को सँवार लो

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें