Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 54, फरवरी(प्रथम) , 2019



जल की रानी


सुशील शर्मा


 
मछली जल की रानी है,
ये तो बात पुरानी है।  
लहराती बल खाती चलती, 
पानी में ये खूब उछलती। 
नदी समंदर में रहती है ,
नीचे से ऊपर बहती है। 
कभी झांकती ऊपर आकर, 
वापस लौटे नीचे जाकर। 
मछुआरे के जाल में फंस कर , 
ये मर जाती तड़फ तड़फ कर। 
इसकी अज़ब कहानी है, 
मछली जल की रानी है। 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें