Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 30,  फरवरी(प्रथम), 2018



पाश्चात्य त्यौहार बनाम भारतीय त्यौहार


सुशील शर्मा


इन पर भी क्लिक करके देखें



NEET ( National Eligibility Entrance Test )
MBBS & BDS Exam Books 2017 :
Practice Tests Guide 2017 with 0 Disc
Rs. 160

NEET - 12 Years'
Solved Papers (2006 - 2017)
Rs. 237

29 Years NEET/ AIPMT
Topic wise Solved Papers
PHYSICS (1988 - 2016) 11th Edition
Rs. 169

संस्कृति न केवल मनुष्य की आत्मा वाहक है बल्कि एक राष्ट्र का मूल भी है। विभिन्न देशों में अलग-अलग संस्कृतियां हैं चूंकि राष्ट्रीय त्यौहार किसी देश की सबसे अच्छी सांस्कृतिक उपलब्धियों और सबसे महत्वपूर्ण रिवाजों का प्रतिनिधित्व करता है, त्यौहार एक सांस्कृतिक घटना है और संस्कृतियों के अध्ययन के लिए एक शक्तिशाली उपकरण भी है। त्यौहार को "संस्कृति का वाहक" माना जाता है। त्यौहार किसी देश ,समाज और संस्कृतियों के व्यवहार और विचारों का प्रतिबिम्बन माना जाता है। त्योहारों से लोग संस्कार सीखते हैं, बनाते हैं और साझा करते हैं। इस अद्वितीय और विशिष्ट घटना के माध्यम से, हम मानव संस्कृति की गहरी परत की जांच सुविधाजनक और प्रत्यक्ष तरीके से कर सकते है। इसके अलावा, एक त्योहार हमें दो संस्कृतियों की विचलन और समानता का पता लगाने के लिए एक आधार प्रदान करता है। जैसा कि ज्ञात है, त्योहार हमारे दैनिक जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक सांस्कृतिक घटना के रूप में त्योहार, मानव विकास और ऐतिहासिक विकास के दौरान अस्तित्व में आता है, इस अनूठी सांस्कृतिक घटना ने मानव परिवेश और प्राकृतिक परिवेश और परिधीय परिवेश को ध्यान में रखते हुए, मानव संस्कृतियों के गुण और नियम संधारित होते हैं और मानव संस्कृति और त्यौहारों के बीच के रिश्ते का पता चला है।

इन पर भी क्लिक करके देखें



Redmi Y1 (Dark Grey, 32GB)
by Xiaomi
₹8,999.00

Moto G5s Plus
(Lunar Grey, 64GB) by Motorola
₹16,999.00
₹14,999.00

OnePlus 5T
(Midnight Black 6GB RAM + 64GB memory)
by OnePlus
₹32,999.00

भारतीय और पश्चिमी देशों के बीच त्योहार भावनात्मक अभिव्यक्तियों के रूप में अलग होते हैं। भारतीय त्यौहार अपने वास्तविक विचारों को प्रदर्शित करते हैं जबकि पश्चिमी लोग हमेशा अपने दिमाग को स्वतंत्र रूप से प्रकट करते हैं। उपहारों और व्यवहारों को स्वीकार करने का तरीका अलग है। त्यौहारों के दौरान, भारतीय और पश्चिमी देशों के त्योहारों में उपहार के बारे में बहुत भिन्न हैं भारतीय लोग अक्सर उपहार को प्रसन्नता से स्वीकार करते है, लेकिन वे इसे प्रस्तुतकर्ता के सामने नहीं खोलेंगे।जबकि पश्चिमी देश में, लोग एक उपहार की मांग करते हैं, और वे आम तौर पर लोगों के सामने इसे खोलते और उनका धन्यवाद व्यक्त करते हैं ।

पाश्चात्य संस्कृति प्राचीन यूनान की सभ्यता की उपज है जिसका विकास नगर दीवारों की किलाबंदियों से हुआ | आधुनिक सभ्यता अर्थात तथाकथित पाश्चात्य सभ्यता पूर्णत: जड़वादी कहा जाता है क्योकि मनुष्यों के मन पर इन दीवारों की गहरी छाप पड़ गयी है |

रवीन्द्रनाथ टैगोर के शब्दों में “यह प्रवृति हमे स्वनिर्मित प्राचीरों के बाहर की प्रत्येक वस्तु को संदिग्ध दृष्टि से देखने को विवश कर देती है और हमारे अंत:करण तक प्रवेश करने के लिए सच्चाई को भी विकट युद्ध करना पड़ता है |पाश्चात्य संस्कृति के मध्य साधन साध्य दोनों ही दृष्टियों से व्यापक अंतर है | एक प्रकृति से साहचर्य की पक्षधर है तो वही द्वितीय स्वनिर्मित दीवारों के मध्य बनाए गए छिद्रों से होकर प्रकृति को देखकर संतुष्ट कर लेती है | त्योहारों का महत्व समाज और राष्ट्र की एकता-समृद्धि, प्रेम एकता, मेल मिलाप के दृष्टि से है- साम्प्रदायिकता एकता, धार्मिक समन्वय, सामाजिक समानता को प्रदर्शित करना है। हमारे भारतीय त्योहार समय समय पर घटित होकर हमारे अन्दर आत्मीयता और राष्ट्रीयता उत्पन्न करते रहते हैं। जातीय भेद-भावना और संकीर्णता के धुँध को ये त्योहार अपने अपार उल्लास और आनन्द के द्वारा छिन भिन्न कर देते हैं। सबसे बड़ी बात तो यह होती है कि ये त्योहार अपने जन्म काल से लेकर अब तक उसी पवित्रता और सात्त्विकता की भावना को संजोए हुए है। युग-परिवर्तन और युग का पटाक्षेप इन त्योहारों के लिए कोई प्रभाव नहीं डाल सका। भारतीय त्योहार पश्चिमी त्यौहारों से अलग हैं। अधिकांश भारतीय त्यौहार प्राचीन मिथकों से आते हैं, लेकिन इनका धर्म से अटूट संबंध हैं। प्राचीन समय में, अलग-अलग इलाकों में एक-दूसरे के साथ संचार का मौका, असुविधाजनक परिवहन के कारण, राष्ट्रों में कम अनुबंध थे, इसलिए संस्कृतियां पूरी तरह से अलग थीं। इन संस्कृतियों को प्रदर्शित और इनके विस्तार में त्योहारों का महत्वपूर्ण योगदान है।पश्चमी त्योहारों का मूल सृजन व्यक्तिवाद के आनंद के लिए हुआ है।पश्चिमी विश्व में व्यक्ति प्रमुख है समाज या परिवार उसके बाद है और इस बात का परिलक्षण वहां के त्योहारों एवम रीतिरिवाजों में स्पष्ट दिखाई देता है।

इन पर भी क्लिक करके देखें



Mammon Women's Handbag
And Sling Bag Combo(Hs-Combo-Tb,Multicolor)

भारत में त्यौहार दैनिक जीवन का एक हिस्सा है उत्सव के दौरान, विशेष और रंगीन क्रियाकलाप राष्ट्रीय संस्कृति के सबसे प्रमुख और प्रतिनिधि पहलुओं को संरक्षित करते हैं। यद्यपि त्योहारों के रूप एक दूसरे से अलग होते हैं, वे सभी प्राचीन रीति रिवाजों ,रिश्तों व ज्ञान, अनुभव या एक खजाने लिए खड़े होते हैं। इसलिए हम देश या राष्ट्र में त्योहारों की समझ के माध्यम से संस्कृति समझ सकते हैं। त्योहार कुछ राष्ट्र से संबंधित हैं, और सभी इंसानों के भी हैं। विभिन्न मूल, पृष्ठभूमि और सामाजिक संरचनाओं के बावजूद, मानव हमेशा आनन्द और खुशी के इज़हार के लिए त्योहारों का आश्रय प्राचीन काल से लेता आ रहा है ।

भारतीय संस्कृति समृद्ध और विविध है और अपने तरीके से अद्वितीय है। भारतीय संस्कृति का स्वरुप विश्वव्यापी एवं आध्यात्मिकतागामी है जबकि पाश्चात्य संस्कृति जड़वादी एवं आत्मक्रेंदित है | पाश्चात्य संस्कृति व्यक्तिवादी है , जबकि भारतीय संस्कृति विश्व के साथ व्यक्ति के संबंधो को महत्त्व देती है | भारतीय संस्कृति मानवतावादी है जबकि पाश्चात्य संस्कृति स्वकेंद्रित है और व्यक्ति के छोटे छोटे कटघरों में बांटकर देखती है |हमारा शिष्टाचार, एक दूसरे के साथ संवाद करने का तरीका आदि हमारी संस्कृति के महत्वपूर्ण घटक हैं। हालांकि हमने जीवन के आधुनिक साधनों को स्वीकार कर लिया है, हमारी जीवन शैली में सुधार किया है, हमारे मूल्यों और विश्वास अभी भी अपरिवर्तित हैं। कोई व्यक्ति अपने कपड़े, खाने और रहने के तरीके को बदल सकता है, लेकिन किसी व्यक्ति के समृद्ध मूल्य हमेशा अपरिवर्तित रहता है क्योंकि वे हमारे दिल, मन, शरीर और आत्मा के भीतर गहराई से जड़ें हैं जो हम अपनी संस्कृति से प्राप्त करते हैं।पश्चिमी संस्कृति को उन्नत संस्कृति के रूप में भी जाना जा सकता है; यह इसलिए है क्योंकि इसके विचार और मूल्य उन्नत सभ्यता के विकास और विकास को बढ़ावा देते हैं। पाश्चात्य संस्कृति भौतिक के प्रति प्रतिबद्ध दिखाई देती है | अत: वह मूलतः अर्थवादी है तथा उसकी मूल प्रवृति भोगवादी है | यह मुख्यतः भौतिक उन्नति के प्रति समर्पित प्रतीत होती है क्योकि उसका आध्यात्मिक पक्ष भी पदार्थ के सूक्ष्मतम रूप से आगे नहीं बढ़ पाता है | दृष्टव्य है ईसाई धर्म का दार्शनिक पक्ष मनुष्य के बंधुत्व पर जाकर रुक जाता है |पश्चिमी संस्कृति का भारत में काफी प्रभाव पड़ा है लेकिन इसके पास इसके पेशेवर और विपक्ष भी हैं। पश्चिमी संस्कृति में कई अच्छी चीजें हैं जो हमने अपनाई हैं लेकिन हम केवल नकारात्मक क्यों देखते हैं? यहां तक कि भारतीय संस्कृति ने पश्चिमी दुनिया को भी प्रभावित किया है। दुनिया सिकुड़ रही है और हम सभी कई तरीकों से एक दूसरे के करीब आ रहे हैं। पश्चिमी संस्कृति ने समाज के लगभग हर आयाम को प्रभावित किया है। किन्तु मुख्य धार्मिक परंपराएं अभी भी समान हैं, हाँ ये बात जरूर है की पश्चिमी संस्कृति के कारण भारतीय जीवन शैली में अंतर आया हैं। हम यह कह सकते हैं कि पश्चिमी संस्कृति ने भारतीय समाज की प्रमुख परंपराओं पर असर नहीं डाला, बल्कि जीवन शैली और समाज की स्पष्ट विशेषताएं बदल दी हैं।इन त्योहारों का रूप चाहे व्यक्ति तक ही सीमित हो, चाहे सम्पूर्ण समाज और राष्ट्र को प्रभावित करने वाला हो, चाहे बड़ा हो, चाहे छोटा, चाहे एक क्षेत्र विशेष का हो या समग्र देश का अवश्यमेय श्रद्धा और विश्वास, नैतिकता और विशुद्धता का परिचायक है। इससे कलुषता और हीनता की भावना समाप्त होती है और सच्चाई, निष्कपटता तथा आत्मविश्वास की उच्च और श्रेष्ठ भावना का जन्म होता है।


Rani Saahiba Printed
Art Bhagalpuri Silk Saree

Amayra blue floral printed long length
anarkali Cotton kurti for womens

Vaamsi Crepe Digital Printed Kurti
(VPK1265_Muti-Coloured_Free Size)

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें

www.000webhost.com