Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 30, फरवरी(प्रथम), 2018



जंगल की लड़ाई


चंद्र मोहन किस्कु


 
      
जंगल में  अब
लड़ाई चल रहा है
सखुआ के पेड़ में
मनुष्य का खून लगा है
और जमीन पर तो __
मनुष्य का सर लुड़क रहा है.
जंगल को गुलाम
करने का लड़ाई
जमीन के अंदर की दौलत
लुटने की लड़ाई
अब जोर पकड़ रही है __
उस अोर से कमांडो
इस अोर से कामरेड
उसके बीच
सखुआ के आड़ मे
आदिवासी रो रहे है
उस अोर से कमांडो के
हिप-हिप हुर्रे
इस अोर से कामरेडो के
क्रान्ति(?) गीत से
जंगल भर गया है __
और
आदिवासीयों के
रोने की आवाज़
लड़ाई के शोर से
दब गया है. 


NEET ( National Eligibility Entrance Test )
MBBS & BDS Exam Books 2017 :
Practice Tests Guide 2017 with 0 Disc
Rs. 160

NEET - 12 Years'
Solved Papers (2006 - 2017)
Rs. 237

29 Years NEET/ AIPMT
Topic wise Solved Papers
PHYSICS (1988 - 2016) 11th Edition
Rs. 169

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें

www.000webhost.com