Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 21, अक्टूबर(प्रथम), 2017



ना मैं भगवे को जानता हूँ ना मैं हरा पहचानता हूँ


राजेश श्रीवास्तव


  
ना मैं भगवे को जानता हूँ ना मैं हरा पहचानता हूँ /
लहराए शान से तिरंगा मैं अपनी शान समझता हूँ /
आ जाय कभी विपदा अपने इस तिरंगे की आन पे -
कटाने को शीष इसके खातिर, मैं तैयार रहता हूँ /
ना मुझे मस्जिद को तोड़ना है ना मंदिर बनाना है /
मुझे तो अपनी जन्मभूमि का सब कर्ज चुकाना है /
लेकर जन्म पाया है जहाँ का पवित्र अन्न जल वायु /
उसी की खातिर है जीना उसी के लिए मर जाना है /
ना कोई यहाँ हिन्दू ना ही मुश्लिम, सिख ना ईसाई /
जो इस धरती को माँ समझा वो सब अपने ही है भाई /
किसी ने धर्म के खातिर इसे यदि नुकसान पहुंचाया /
उन सबको सबक सीखने को ना बरतेंगे कोई कोताई /
तिलक, टोपी और क्रॉस सबकुछ अपने साथ रखेंगे /
सिखलाये देशप्रेम उन सब धर्मों का सम्मान रखेंगे /
पढ़ेंगे गीता , बाइबिल, कुरआन, गुरुबाणी फिर भी -
सबसे ऊपर अपना प्यारा पवित्र संविधान रखेंगे /
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें