Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 28, जनवरी(प्रथम), 2018



नदी सदा बहती रही


अमरेश सिंह भदोरिया


 
हमसे भी और तुमसे भी 
तो बढ़ने को कहती रही।
नदी   सदा  बहती   रही।
नदी   सदा  बहती   रही।
	1.
पाषाणों    की   गोदी हो
या      रेतीली      धरती।
अपने    दिल   का  हाल
भला कब अपनों कहती।
चोट हृदयं  में  अपने  वो
सदियों  से  सहती   रही।
नदी   सदा  बहती   रही।
नदी   सदा  बहती   रही।
	2.
उठती    गिरती     लहरें 
हमसे तुमसे  करें  इशारे।
उतार  चढ़ाव  जीवन के
दायें     बाएं       किनारे।
मुक्तभाव  से  जीवन  में
सुख-दुःख वो गहती रही।
नदी   सदा  बहती   रही।
नदी   सदा  बहती   रही।
	3.
जीवन में स्वीकार किया
कब     उसने     ठहराव।
हर पल  अपने  में उसने
कायम    रखा     बहाव।
संघर्षों की गाथा धूप की
चादर  में   लिखती  रही।
नदी   सदा  बहती   रही।
नदी   सदा  बहती   रही।
	4.
अपनी  राह  बनाने   की
करती   कवायद     पूरी।
उद्गम  स्थल  से   नापती
सागर   तट    की    दूरी।
मिले  शिखर  जीवन  में
हरदम  वो  कहती   रही।
नदी   सदा  बहती   रही।
नदी   सदा  बहती   रही।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें

www.000webhost.com