Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 28, जनवरी(प्रथम), 2018



है यक़ीं ख़ुद पर


रोहिताश्व मिश्रा


 
है  यक़ीं  ख़ुद पर  तो फिर परवाज़ की बातें करो,
या  किसी  शाहीं  किसी शहबाज़  की बातें  करो।

आये हो पास आओ और कुछ राज़ की बातें करो,
क्या  ज़रूरी  है! दिल-ए-नासाज़  की  बातें  करो।

साक़ी, सह्बा, जाम, साग़र, मयक़दे  के बाद अब,
मयकाशों  से क्यों  भला  मयसाज़  की बातें करो।

शाख़  से अफ़्लाक़  तक  की  दूरियों  से  क्या हमें,
पंछियों   अपनी   हदे   परवाज़   की   बातें   करो।

कहते  हैं  यूँ,  चर्ख़  के  आगे  भी हैं  कुछ आसमाँ,
एक  मंज़िल  पा  के   नौ-आग़ाज़  की  बातें  करो।

यह क़दामत छोड़कर 'रोहित' कहो तुम कुछ जदीद,
कुछ   नया  सोचो   नये  अंदाज़   की  बातें   करो।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें

www.000webhost.com