Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 26, दिसम्बर(प्रथम), 2017



बरदाश्त


शशांक मिश्र भारती






रामलाल की इकलौती बिटिया गले में फन्दा डालकर झूल गई।

शायद कल रात का अपमान बरदाश्त न कर पायी थी। करती भी कैसे उसके ही बाप ने तो हैवानियत के नशे में उसे कमरे में बन्द कर लिया था।

रोना-गिड़-गिड़ाना कुछ काम न आया था।






www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें