Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 26, दिसम्बर(प्रथम), 2017



माँ


अमरेश सिंह भदोरिया


 
जिंदगी के एहसास में 
ओ हर वक़्त रहती 
कभी सीख बनकर  
कभी याद बनकर
1. दुनिया में नही दूसरी कोई समता सन्तान से पहले जहाँ जन्म लेती ममता औलाद में स्वयं फौलाद भरती टकराती तूफानों से चट्टान बनकर जिंदगी के एहसास में ओ हर वक़्त रहती कभी सीख बनकर कभी याद बनकर
2. पन्नाधाय बनी कभी बनी जीजाबाई अंग्रेजों से लड़कर कहलाई लक्ष्मीबाई सामने पड़ा है कभी राष्ट्रहित जब उदर अंश को रख लिया है पीठ पर जिंदगी के एहसास में ओ हर वक़्त रहती कभी सीख बनकर कभी याद बनकर
3. प्रगति को जहाँ रुकना पड़ा है देवत्त्व को स्वयं झुकना पड़ा है सतीत्व को कसौटी पर सती ने रखा जब त्रिलोकी झूले हैं पालने में पड़कर जिंदगी के एहसास में ओ हर वक़्त रहती कभी सीख बनकर कभी याद बनकर
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें